माँ की जादूगरी!

शब्दों का जादू उन्हें बखूबी चलाना आता है,

वो मेरी माँ है, जिनकी डांट में भी प्यार नज़र आता है।

उन्हें पता है बहुत अच्छे से, कब कान सीधा और कब घुमाकर पकड़ना है।

कब कितना गुस्सा करना है और कब प्यार दिखाना है।

वो मेरी माँ है,

जिनकी डांट में भी प्यार नज़र आता है।

मेरी हर अनकही को जो बिन बोले ही समझ ले।

सिर्फ भाव पढ़कर ही जो दिल का हाल बता दे।

मेरी भूख प्यास का हिसाब जो मुझसे ज्यादा रखे।

कभी नारियल सी सख्त तो कभी मोम सी कोमल लगे।

वो मेरी माँ है,

जिनकी डांट भी प्यारी लगे।

वो मेरी माँ है जो मुझे जग से प्यारी लगे।

मेरी हर तकलीफ़ में मेरे साथ खड़ी रहती है,

दूर हो भले ही शरीर से पर आत्मा से जुड़ी रहती है।

मेरी हर कमी को मेरी ताक़त बनाने में लगी रहती है,

मुझ से ज्यादा विश्वास जो मुझ पर करती है।

वो मेरी माँ है,

जो मुझ पर अपनी जान न्यौछावर करती है।

वो मेरी माँ है जो मेरे लिए दुनिया से लड़ जाती है।

वो मेरी माँ है,

जिसे शब्दों का जादू बखूबी चलाना आता है,

वो मेरी माँ है,

जिनकी डांट में भी प्यार नज़र आता है।

©®दीपिका

नज़रिये का फेर!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/16/nazariye-ka-pher/

मन की सुंदरता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

पॉडकास्ट सुने।

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Zindagi-Ka-Safar-ecn9ig

39 thoughts on “माँ की जादूगरी!

  1. मेरी हर कमी को मेरी ताक़त बनाने में लगी रहती है, thats exactly my daughter always asks me.how can you find something positive everything?

    Like

  2. In last two months I have become mom of my mom. I realized few things that I never did before. Could relate with your poem very closely. Nice one.

    Liked by 1 person

  3. Jab Baat Maa ki aati hai to kuch Sahi galat nahi har chez perfect ho jati hai, Maa k pyar aur unke gusse se bada satya kuch aur hai hi nahi, bahut sunder abhivyakti Deepika.

    Like

  4. Mothers are special and mine is the best. This was a very touching poem about mother’s and their multiple roles in all our lives.

    Like

  5. Mothers are always special. I adored how emotional and beautiful this poem is.A perfect Mothers day gift indeed for a mom

    Like

  6. Wow, I am speechless Deepika, this is one of the most beautiful poems I have read on Maa. It’s heart-touching! Loved it.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.