चलो फिर से शुरू करते है!

स्वागत है आप सभी लोगों का, “बातें कुछ अनकही सी” के तीसरे भाग में, जहां हम बात करेगें, एक नई शुरूवात की, अपनी चाहतों और कोशिशों की, तो देर न करते हुए चलिए शुरू करते है।

इस बड़ी सी दुनिया में अपनी छोटी सी जगह चाहती हूं।

जो दे दिल को सुकून और सपनों को उड़ान, वो ख़्वाब देखना चाहती हूं।

बहुत ज्यादा बड़ा ना सही, पर एक छोटा सा कोना अपने लिए चाहती हूँ।

बड़ी बड़ी इमारतें ना सही, एक अपना सा घरौंदा अपने लिए चाहती हूं।

इस बड़ी सी दुनिया में अपनी छोटी सी जगह चाहती हूं।

चलो फिर से शुरू करते है!

जो दिल में दबा हुआ है उसे एक नया रूप दे देते है,

क्या हुआ जो पूरी नहीं हुई कोशिश आज, चलो फिर से शुरू करते है।।

एक बार में ही सफलता मिल जाये ये कोई जरूरी तो नहीं है,

कोशिश करना तो हमारे हाथ में ही है, किसी ने रोका थोड़े ही है।

चंद कोशिशों के बाद हर मान लेना हमारी जीत की संभावनाओं को हमसे दूर कर देते है।

क्या हुआ जो पूरी नहीं हुई कोशिश आज, चलो फिर से शुरू करते है।

चींटी बार बार कोशिश करके भी थकती नहीं है,

जंग आत्म बल से जीती जाती है, इसका एक बेमिसाल उदाहरण पेश करती है।

क्या हम खुद के लिए खुद चुनौती नहीं बन सकते है।

क्या हुआ जो पूरी नहीं हुई कोशिश आज, चलो फिर से शुरू करते है

मन के हारे हार और मन के जीत होती है,

कठिनाइयाँ रास्ता जरूर रोक सकती है पर अंतिम अवसर जरूर देती है।

अब ये हम पर है कि हम क्या फैसला लेते है?

क्या हुआ जो पूरी नहीं हुई कोशिश आज, चलो फिर से शुरू करते है।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/03/11/koshishe-2/

कविता सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें।

https://anchor.fm/deepika-mishra

पिछला पोस्ट पढ़े

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?
https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

25 thoughts on “चलो फिर से शुरू करते है!

  1. Such an inspiring poem Deepika..loved the lines “Chalo phir se shuru karte hai..” you know, personally I firmly believe in this statement..and often told my girls, “Chalo phir se shuru karte hai..”, when they get stuck with something. I think, it should be our attitude for dealing problems of life.

    Liked by 1 person

  2. Wow, so nice. Beautifully penned Deepika. I loved the concept too. Chalo, firse shuru karte hai, the words have a bunch of positive vibes around. Loved it.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.