मन की सुंदरता!

बाहरी काया पर तो सबका ध्यान होता है पर भीतर क्या है,

ये कितने जानना चाहते है?

अगर भाया नहीं रंग रूप फिर भी,

मन की सुदंरता के लिए कितने आगे आते है?

शायद बहुत कम मिलेंगे जिनके लिए मन का सुंदर होना ज्यादा जरूरी होता है, तन के सुंदर होने से।

उन्हें आकर्षण होता है उनकी बातों का, उस आभा का, ना कि फ़र्क पड़ता है क्षणभंगुरी काया से।

बाहरी आकर्षण का क्या है?

आज है ,कल नहीं रहेगा!

भीतरी सुदंरता ही अलौकिक है, शाश्वत है, इसका अस्तित्व तो सदा बना रहेगा।

जिसके मन में मैल न हो उसकी आभा में एक अलग सी चमक दिखाई देती है।

महसूस कर सकते हो उस रूहानी अनुभव को, एक इबादत सी, एक दुआ सी सुनाई देती है।

बाहरी काया पर सबका ध्यान होता है पर भीतर क्या है,

ये कितने जानना चाहते है?

अगर भाया नहीं रंग रूप फिर भी,

मन की सुदंरता के लिए कितने आगे आते है?

©®दीपिका

लम्हे जो बीत गए है।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

पॉडकास्ट सुने।

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Zindagi-Ka-Safar-ecn9ig

35 thoughts on “मन की सुंदरता!

  1. Outer beauty come and goes but inner beauty aways remains close to our heart and it steals the heart of others who come in contact with us. I wish people understand the depth of inner beauty.

    Liked by 1 person

  2. So true Deepika this is the sad reality of the world we are living in, that rarest one can able to recognize the beauty of a truel heart and mind, very well presented the bitter truth by you.

    Liked by 1 person

    1. Thank you so much, Archana😊 You people are a gem. Sorry If I am not regular on your blog, my husband is working and I am quite busy with my tiny kids and other work. You people are boosting my morale by your lovely comments.

      Like

  3. बिल्कुल सही कहा। खूबसूरत रचना।👌👌

    होड़ लगी पाने की वह बाहरी आकर्षण है,
    अंदर की पहचान जिसे
    वे दौड़ा नही करते।
    खो जाता है जिसे आँखें पसन्द करती है,
    दिल से चाहनेवाले कभी,
    रोया नही करते।

    Liked by 1 person

  4. “बाहरी सुंदरता एक छलावा है” वाह बहुत खूब! It is the inner beauty that matters in the long run. Loved your poem!

    Liked by 1 person

  5. Why people are making me cry today?? This theme is something very close to the heart. I am strongly against the body shaming taboo. And I have witnessed it, bahut sare log abhi bhi mere bahar ke roop dekhke comment karte hai, koi andar jhak kar nhi dekhta. Kya kare, aisi hi hai yeh duniya ke log. Lovely poem Deepika. Touched my heart. I wish, someone could read it today.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.