थमी नहीं है ज़िंदगी!

सूखी मिट्टी में पानी की बूँद जैसी ज़िंदगी,

तपती गर्मी में ठंडी छाँव जैसी ज़िंदगी,

मुश्क़िलों से आँख मिचौली करती ज़िंदगी,

कभी हँसाती तो कभी रुलाती ज़िंदगी।

चाहे कुछ भी हो जाएं, हार ना मानती ज़िंदगी,

चलते रहिए, आगे बढ़िये!!

अभी थमी नहीं है ज़िंदगी।

आख़िरी सांस तक मौत से लड़ती ज़िंदगी।

अपनों को हौंसला दिलाती ज़िंदगी।

गिरते हुए को उठाती ज़िंदगी।

कभी भयानक तो कभी सबसे खूबसूरत रूप दिखाती ज़िंदगी।

चाहे कुछ भी हो जाएं, हार ना मानती ज़िंदगी,

चलते रहिए, आगे बढ़िये!!

अभी थमी नहीं है ज़िंदगी।

रोज नये पाठ पढ़ाती ज़िंदगी,

मुश्क़िलों को सुलझाती ज़िंदगी,

कभी गले लगाती तो कभी आंख दिखाती ज़िंदगी,

तो कभी अपना बनाकर पराये होने का अहसास करवाती ज़िंदगी।

चाहे कुछ भी हो जाएं, हार ना मानती ज़िंदगी,

चलते रहिए, आगे बढ़िए!!

अभी थमी नहीं है ज़िंदगी।

©® दीपिका

https://youtu.be/W9gegLb7TlU

सुकून की तलाश!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/sukoon-ki-talash/

नई सहर रोशनी वाली!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/21/nayi-sahar-roshani-vali/

वक़्त जो रुकता नहीं।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/20/waqt-jo-rukta-nahi/

प्यार की ताक़त!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/18/pyar-ki-taakat/

माँ की जादूगरी!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/17/maa-ki-jaadugari/

नज़रिये का फेर!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/16/nazariye-ka-pher/

मन की सुंदरता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

12 thoughts on “थमी नहीं है ज़िंदगी!

  1. Wahh. How lovely. Specially the opening lines are so thoughtful Deepika. Loved the poem, and I follow this only. Despite having faced a lots of obstacles, I keep going in life.

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.