और भी दर्द है इस जमाने में।

चलिए आज बात करते है “बातें कुछ अनकही सी” में कुछ उस अनकहे दर्द के बारे में, जिसे कई बार हम समझ पाते है और कई बार जाने अनजाने अनसुना कर देते है अपनी ज़िंदगी की भाग दौड़ में।

और भी दर्द है इस ज़माने में

खुदगर्ज़ी की इन्तेहाँ तो देखो, वो दर्द भी दिए जाते है और “बेकसूर” भी कहलाते है,

क्या करे अपना दर्द बयां?

और भी दर्द है इस जमाने में, चलो किसी बंद दरवाजें को ताज़ी हवा के लिए खोल के आते है।

पैबंद तो कई है आज भी उसकी पोशाक पर,

पर नज़रों के वार उसके वजूद को तार तार किए जाते है।

और भी दर्द है इस जमाने में, चलो किसी बंद दरवाजें को ताज़ी हवा के लिए खोल के आते है।

बहुत बड़ी तादाद है अभी भी ऐसे लोगों की, जो कि सिर्फ अपने दर्द को सबसे बड़ा पाते है।

किसी की टूटी चारपाई और किसी की घिसी चप्पलें उनका “हाल ए दर्द” छुपा भी नहीं पाते है।

क्या कहे और क्या नहीं, इतना अंतर भी अपनी मासूमियत में समझ भी नहीं पाते है,

और भी दर्द है इस जमाने में, चलो किसी बंद दरवाजें को ताज़ी हवा के लिए खोल के आते है।

खुद गर्ज़ इतने भी ना बने कि खुदगर्ज़ी खुद शर्म के चोले में छुप जाए।

कोई भूखा, कोई बीमार सिर्फ़ मदद की आस में हाथ फैलाता ही रह जाए।

चलो कुछ कम करने की कोशिश करते है ऊँच नीच के फ़ासलें को और आधी आधी बाँट कर खाते है।

और भी दर्द है इस जमाने में, चलो बंद दरवाजों को ताज़ी हवा के लिए खोल के आते है।

©®दीपिका

पिछली पोस्ट पढें

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?
https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

पॉडकास्ट पर सुने

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/DuaayeBlessings-ec1mq3

37 thoughts on “और भी दर्द है इस जमाने में।

  1. Bahut khoob
    चलो किसी बंद दरवाजें को ताज़ी हवा के लिए खोल के आते है। this line is so full of positivity…
    ‘Jio dil se’ is awesome

    Liked by 1 person

  2. Deepika, you are creating magic with your words in this series. “और भी दर्द है इस जमाने में, चलो किसी बंद दरवाजें को ताज़ी हवा के लिए खोल के आते है।” Agar har kisi ko yeh baat smajh mein aa jaye fir shayad nafarat yeh shabda shabdakosh se hamesha k liye chala jaega…..

    Liked by 1 person

  3. Such a beautiful lines..aur bhi dard hai is zamane mai..sahi kaha tumne, kabhi kabhi ham bahut self centered ho jate hai, aur sirf apni choti choti baato ka rona rote rahte hai..zarorat hai samjhne ki ..aur bhi dard hai zamane mai, chalo kisi band darwaze ko tazi hawa ke liye khole ke aate hai..

    Liked by 1 person

    1. Thank you so much Surbhi for your kind words. I feel if someone in pain and we can do something we must. I am not talking about financial support, it can be emotional too. This is the gesture of human which we are lacking gradually.

      Like

  4. This is lovely…चलो किसी बंद दरवाज़े को ताज़ी हवा के लिए खोल आते हैं।
    I simply loved this line. I found a lot of shayari in this poem of yours. Very well penned.

    Liked by 2 people

  5. I absolutely loved this poem. It’s true that we only think about our pain, but forget about others.
    It was a bit emotional and teaching us to think about other’s pain as well.

    Liked by 1 person

  6. I liked the way you ended the poem. ‘Dard ko kam karte hain aur adhi adhi baant kar khate hain’. Noble sentiments rarely possessed by human beings. Loved your poem.

    Liked by 1 person

  7. Jante hai Deepika, bas kal hi aisi dard ko lekar baat huyi Pashmeena se. Isi liye aapki yeh kavita dil ko aur bhi zyada chhu gayi. Ab to aadat si ho gayi hai aapki kavita ko har subah padhne ki, aur zindegi ki leher mein apne aapko firse apnane ki. Bahut sundar. Intezar hai agle kavitaon kaa. Dher sara pyar. ❤

    Liked by 1 person

  8. Another post full of positivity Deepika. ” Chalo kuch band darwaze taazi hawa ke liye khol ke aate hain”

    “hum bhi toh dekhein ye jhonke baahar se kiski khushboo sath late hain”
    ( a small contribution from my side 🙂 )

    Liked by 1 person

  9. Brilliant thoughts! Aisi soch hum kabhi kabhi bhi apna lein to kitna achcha ho. Aksar hum apne hi dukhon ko bada samajhkar pareshan hote rehte hain, na dusron ka Dard samajhte hain na khud ke liye kabhi khush hote hain.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.