देशभक्ति: हर वो व्यक्ति सच्चा देशभक्त होता है।

हर वो व्यक्ति सच्चा देशभक्त होता है जो कि अपने कर्तव्यों की जिम्मेदारी और अपने अधिकारों की समझ रखता है,

क्या अच्छा है, क्या बुरा है उसके और उसके समाज के लिए उसकी परख रखता है।

हर वो व्यक्ति सच्चा देशभक्त होता है जो कि अपने कर्तव्यों की जिम्मेदारी और अपने अधिकारों की समझ रखता है।

सिर्फ़ सांकेतिक देशभक्ति दिखाना ही काफ़ी नहीं होता,

क्योंकि स्वाध्याय का पाठ तो अपने घर से ही शुरू होता है।

ना किसी से डरे, ना डराएं, ना बेवज़ह लड़े, ना लड़ाएं,

ना सहे गलत, ना दूसरों के साथ होते देख कर भी उसका मौन भागीदार बनता जाएँ।

जिस समाज में हम रहते है उसको धरातल और सोच से स्वच्छ रखना ही सच्ची देशभक्ति है,

हमारे कर्म हमारी सोच का दर्पण बन जाएँ, यही सही अभिव्यक्ति है।

हर वो व्यक्ति देशभक्त होता है जो कि अपने कर्तव्यों की जिम्मेदारी और अपने अधिकारों की समझ रखता है।

क्या अच्छा है, क्या बुरा है उसके और उसके समाज के लिए उसकी परख रखता है।

https://youtu.be/uiGnGhXF-zY

~~दीपिकामिश्रा

https://youtu.be/S5qp4qvbNxo

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा…

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा,

जिन ऊँगलियों को पकड़ कर सीखा है चलना, उनसे हाथ न छुड़ा।

पथराई आँखे, काँपते हाथ शायद बहुत कुछ कहना चाहते है तुझसे,

इस भाग दौड़ की आपाधापी में तू इनसे नज़रें ना चुरा।

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा…..

तेरा तुझमें बहुत कुछ उनका सा भी है,

तुझे सम्पूर्ण बनाने में जिसने अपना खून पसीना दिया।

अब आगे निकल जाने पर उनको पिछड़ा ना गिना,

सिर्फ़ बातों से नहीं, अपने प्यार से उनके प्यार की क़ीमत चुका।

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा….

©®दीपिकामिश्रा

Welcome to the podcast poetry👇

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Episode-25-Tu-apni-jado-ko-mat-bhul-ja-e13m6kv

YouTube poetry👇

https://youtu.be/4tGnUFE4ZjE

Shower your love🌼🌼

Regards & Gratitude,

Deepika Mishra

ज़माना क्या माँपेगा….

ज़माना क्या माँपेगा…. उस पंछी की परवाज़ को,

उसके आगाज़ को और उसके अंजाम के अंदाज़ को….

जिसने कतरे हो खुद पंख उसके,और नाम दिया हो उसे उसकी बेहतरी के इंसाफ़ का…

उस हिज़ाब का, उस लिबाज़ का

जहाँ उसके क़दम उसकी ही बंदिशों में रुकने लगते है,

और दायरे औरों की मर्ज़ी के तकलुफ्फ़ में सिमटने लगते है।

तब वो खुद खुद को रोशन करने की ठान लेता है,

चाहत को अपनी तलवार बना जंग फान देता है।

जानता है ये जंग अपनी सोच से नहीं औरों की हैरानियों से है,

उनके विस्मय को बढ़ाती हुई उन पेशानियों से है।

©® दीपिकामिश्रा

Welcome to my podcast👇

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Episode-11-Kyun-Shir-Jhukaye-khada-hai-tu-ehan36

वो मेरे पापा है..

Happy Father’s Day

वो जो थोड़ा सकुचाते है, कितना है प्यार उन्हें अपने बच्चों से, थोड़ा कम ही बताते है।

वो मेरे पापा है,जो थोड़ा कम ही जताते है….

किसी भी चीज़ की कमी ना होने पाएं उनके प्यारों को, इसके लिए जो सारी तकलीफ़ सह जाते है।

वो मेरे पापा है जो थोड़ा कम ही जताते है…

जबसे समझा, उनको जाना पाया कि कैसे अपने तन का ना करके अपने बच्चों को सुंदर पोशाकों से सजाते है।

वो मेरे पापा है, जो थोड़ा कम ही जताते है….

क्या चाहिए हमें, उसकी लिस्ट पहले बनवाते है, खुद के फटे जूतों की सुध भी जो ना ले पाते है।

वो मेरे पापा है, जो थोड़ा कम ही जताते है….

उनके लिए क्या लिखूँ, क्या कहूँ, शब्द ही काम पड़ जाते है, जो चुप रहकर अपनी चुप्पी से ही काफ़ी कुछ कह जाते है।

वो मेरे पापा है, जो थोड़ा कम ही जताते है।

©® दीपिकामिश्रा

Happy Father’s Day….

Full video link👇

https://youtu.be/Gj2gSlW_cPE

काश!! सब मन चाहा होता…


कितने लोगों ने कितनी ही बार ये सोचा होगा,
सोते जागते इन सपनों को बुना होगा।

कितना अच्छा होता कि सब कुछ मन चाहा होता,जो मन होता वो कर जाता, जहाँ मन चाहे टहल आता।

काश!! सब मन चाहा होता…तो कितना अच्छा होता।

पर जिंदगी इंस्टेंट नूड्ल्स की तरह नहीं होती वो तो एक स्वादिष्ट डिश की तरह होती है,

जिसे पकने में काफ़ी समय, काफ़ी धैर्य, काफ़ी कौशल और काफ़ी कला लगती है।

जहाँ नमक, मिर्च और मसालों का समायोजन एकदम संतुलित होता है,
कोई भी स्वाद एक दूसरे को ओवर पॉवर नहीं कर रहा होता है।

वैसे ही ज़िंदगी होती है जहाँ बहुत से रिश्ते बनते और बिगड़ते रहते है,
आगे बढ़ने और ऊँचा बनने की लड़ाई में एक दूसरे से कितना झगड़ते रहते है।

खुद को ऊँचा उठाने की कोशिश करे, दूसरों को गिराने की नहीं,
सब कुछ मनचाहा मिल जाता तो जिंदगी का ये स्वाद रह जाता, कहिए सही कह रही हूँ या नहीं।

जो मनचाहा मिलता है उसका स्वागत करे, उसका आंनद ले।
और जो नहीं मिला है उसके बारे में सोचकर खुले रास्तों को बंद ना करे।

©®दीपिकामिश्रा

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करे👇

https://youtu.be/FuoT8pxZokM

चमक उसके स्वाभिमान की…

कौन कहता है कि ये सच नहीं, वो करती सब है, पर सबको जँचती नहीं।

सारा माहौल संभालती है पर अपने अंदर का माहौल बिगड़ने के भय से कभी बचती नहीं।

वो लड़ती रहती है रोज़ अपने अंदर की कशमकश से,

अपने बारे में सोचे या करे समझौता हर छोटे बड़े किस्से से।

आसां नहीं होता अपने आप को उन चीज़ों के लिए मना लेना,

स्वच्छंद उड़ने वाले पंछी को एक छोटे से पिंजरे में कैद कर देना।

अपनी परवाज़ को वो एक ऊँचाई देना चाहती है,

पर अपने स्वाभिमान के साथ समझौता उसे कतई पसंद नहीं है।

इसी तरह चलते चलते वो काफ़ी सफ़र तय कर लेती है,

आते जाते दो राहों पर भी वो मंज़िल नहीं वो खोती है।

उसके भीतर की टोह लेना इतना भी आसान नहीं होता,

वो सिर्फ़ एक औरत नहीं, एक पूरा संसार उसके आँचल में है बसता।

~~दीपिकामिश्रा

रंगों की बोली…

रंग बदलती इस दुनिया में कुछ रंग ऐसे भी है

जिन से बनती है ये ज़िन्दगी खूबसूरत और बेहतरीन।

जो ये रंग ना हो तो

सब कुछ होते हुए भी लगे फ़ीका फ़ीका जैसे नमक बिना लगे नमकीन।

वो रंग है अपनेपन का, जो खून के रिश्तों का मोहताज़ नहीं होता।

वो रंग है दोस्ती का, जो यारों के लिए हर डाँट सुनने को तैयार रहता है।

वो रंग है सादगी का, जो सारी चकाचौंध को खुद में समा लेता है।

वो रंग है समर्पण का,जो अपनों की सुध में खुद को भुला देता है।

वो रंग है सच्चाई का, जो हर झूठ को आईना दिखा देता है।

वो रंग है अच्छाई का, जो बुराई को भी खुद में समा लेता है।

वो रंग है खुशी का, जो गमों को भुला दे।

वो रंग है हँसी का जो फिर से जीना सीखा दे।

~~दीपिकामिश्रा

अर्ज़ किया है…ये जरूरी तो नहीं।

अपनापन खून के रिश्तों की ड़ोर से बंधा हो,

ये जरूरी तो नहीं।

मैं सोचती हूँ जैसा अपने बारे में,

तुम भी सोचो वैसा मेरे बारे में ये जरूरी तो नहीं।

तुम आज़ाद हो, मेरे बारे में अपनी राय बनाने में,

मुझे मेरी दृष्टि में हेय बनाकर बार बार नज़रों से गिराने में।

पर…पर

तुम्हारे प्रयासों को सफलता तब ही मिलेगी,

जब मैं भी तुम्हारी सोच में अपनी मौन सहमति दर्शा दूँ।

तुम बनाना चाहते थे जैसा मुझे शनै शनै मैं भी खुद को वैसा बनता देखूँ।

भीड़ से अलग सोचने में और अलग खड़ा रहने में एक अलग सी हिम्मत लगती है,

जाने सब करते है क्यूँ ऐसा मेरे साथ ही, इस बारे में सोचना मुझे वक़्त की बर्बादी लगती है।

अपना काम करना और खुश रहना, ये मेरे जीने का सिद्धांत हो सकता है,

सबकी ज़िंदगी का भी यही हो सिद्धांत, ये जरूरी तो नहीं।

अपनापन खून के रिश्तों की ड़ोर से बंधा हो,

ये जरूरी तो नहीं।

मैं सोचती हूँ जैसा अपने बारे में,

तुम भी सोचो वैसा मेरे बारे में ये जरूरी तो नहीं।

~~दीपिकामिश्रा

आप इस कविता को यहाँ सुन भी सकते है, पसंद आये तो चैनल को जरूर सब्सक्राइब करे👇

https://youtu.be/TgocQn4Yicc

नई खुशियों के द्वार

नई खुशियों के द्वार…

जब खुद को समझाना मुश्किल लगने लगे, जब हर अपना बेगाना लगने लगे,

जब हर बात दिल को दुःखाने लगे, जब आंखें भी सबसे नज़रें चुराने लगे।

तो समझ लेना कि मन घावों से भर गया है, ना चाहते हुए भी मन में कुछ गढ़ सा गया है।

ये समय है खुद को नकारात्मक विचारों से दूर करने का,जो घट चुका है उसे भुलाकर आगे बढ़ने का।

क्योंकि जब तक हम उन्हीं बातों में उलझे रहेंगे,अपने उत्साह को पल पल खोते रहेंगे।

जरूरी नहीं कि एक बार जो गलत हुआ है, वो बार बार ही अपने आप को दोहराएगा,जो हो रहा है उसमें छिपा हो सकता है कोई मक़सद जिसका आभास आपको भविष्य ही करवाएंगा।

अपनी खुशियों की चाबी अपने हाथ में ही रखिये,दूसरों को मत दीजिये, ये समझना भी अब जरूरी हो जाता है,

कब तक भटकते रहोगे आप गम के अंधेरों में, खुद को एक मौका देना भी नई खुशियों के द्वार खोल जाता है।।

©®दीपिका मिश्रा

जब मैं थक जाया करती हूँ…

जब मैं थक जाया करती हूँ तो खुद को समझाया करती हूँ कि कोई बात नहीं,

थोड़ा सुस्ता ले…

थम जा थोड़ा और अब तक के जिए पलों के थोड़ा हिसाब लगा ले।

कोई हर्ज़ नहीं है थोड़ा गुणा भाग करने में,

क्या खोया, क्या पाया इस जद्दोजहद की जांच करने में।

जब मैं थक जाया करती हूँ तो खुद को समझाया करती हूँ,

सारी जिम्मेदारियों के बोझ तले कुछ पल सुकूँ के अपने लिए चुराया करती हूँ।

जहाँ ना बंदिश होती है ख्यालों पर और ना ही किसी सोच का पहरा होता है,

आज़ादी होती है खुद से मिलने की, उन चंद मिनटों का वक़्त भी कितना सुनहरा होता है।

जहाँ मैं खुद से मिला करती हूँ, खुद से गिला करती हूँ,

रखती हूँ लेखा जोखा अपने सपनों का, अपने अरमानों का,

जो पूरे हुए उनका और जो छूट गए उनके हर्ज़ानों का।

जब मैं थक जाया करती हूँ तो खुद को समझाया करती हूँ कि कोई बात नहीं, थोड़ा सुस्ता ले…

थम जा थोड़ा और अब तक के जिए पलों के थोड़ा हिसाब लगा ले।

अगर लगे कि सब बराबर है तो फिर तो कोई गम ही नहीं,

पर गर लगे कि मामला गड़बड़ है और स्थिति काबू में नहीं है तो रास्ता बदलने में भी देर नहीं लगाती हूँ।

जब मैं थक जाया करती हूँ तो खुद को समझाया करती हूँ।

~~दीपिका मिश्रा

https://youtu.be/CMELPt4vzGM

यहाँ पढ़े

Read more..

बातें कुछ अनकही सी..

Baate kuch ankahi si..

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/07/15/baate-kuch-ankahi-si/

पॉडकास्ट सुने… जिओ दिल से!!

Podcast… Jio Dil Se

https://anchor.fm/deepika-mishra

नई कविता

New poem…

वक़्त जो ठहर से गया है

https://youtu.be/UHUGbFsx_6k
प्लीज लाइक, शेयर और सब्सक्राइब करे।

If you like the content, Please like, share and subscribe

Regards & Gratitude,

Deepika Mishra