वक़्त जो ठहर सा गया है!

कुछ लम्हें ऐसे आते है ज़िंदगी में, जब वक़्त ठहर सा जाता है

सब कुछ फ़ीका फ़ीका और बैरंग सा लगने लग जाता है।

कोई भी खुशी चेहरे पर चमक नहीं लाती है,और एक छोटी सी चोट भी रुला के जाती है।

मन भरा भरा सा लगने लग जाता है,और अतिउत्साही रहने वाला मैं भी खुद को शांत सा पाता है।

सारी आरजुएं कुछ पल के लिए कहीं दफ़न सी हो जाती है,देह तो क्या रूह तक भी आँसू बहा जाती है।

लगता है कि वक़्त ठहर सा गया है, बिन बोले भी जैसे बहुत कुछ कह सा गया है।

अगर इस वक़्त में हम हिम्मत हार जाते है तो आधी क्या बिना कोशिश किए पूरी जंग ही हार जाते है।

ऐसे ही कुछ कमज़ोर पल हमें गलत रास्तों की तरफ धकेल देते है,

पर बाद में बस पछतावा रह जाता है क्यूँकि हम खुद अपनी खुशियों का रास्ता बंद कर लेते है।

सही फैसला, सही सोच परिस्थितियों का रुख़ बदल सकती है,

जानती हूँ इतना आसां नहीं होता, ये समझना पर कोशिश तो कर ही सकती हूं।

कुछ लम्हें ऐसे आते है ज़िंदगी में, जब वक़्त ठहर सा जाता है।

सब कुछ फ़ीका फ़ीका और बैरंग सा लगने लग जाता है।

©® दीपिका

वजह तुम हो!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/24/vajah-tum-ho/

सपनों की उड़ान!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/24/sapno-ki-udaan/

थमी नहीं है ज़िंदगी!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/thami-nahi-hai-zindagi/

सुकून की तलाश!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/sukoon-ki-talash/

नई सहर रोशनी वाली!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/21/nayi-sahar-roshani-vali/

वक़्त जो रुकता नहीं।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/20/waqt-jo-rukta-nahi/

प्यार की ताक़त!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/18/pyar-ki-taakat/

माँ की जादूगरी!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/17/maa-ki-jaadugari/

नज़रिये का फेर!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/16/nazariye-ka-pher/

मन की सुंदरता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

21 thoughts on “वक़्त जो ठहर सा गया है!

  1. Kamazor pal hi insaan ki asli pariksha ka samay hota hai. Agar tab humne himmat nahi hari, agar tab hamare pair nahi dagmagaye, fir sab aasan hi assan hota hai.

    Liked by 1 person

  2. Deepika, aapko kaise sab kuch pehle se pata hota hai ? Bass issi soch ko lekar main pareshan hoon kal se, aur dekho, aaj aapne ussi soch ke upar ek kavita likkhi hai. Wahh, kya baat hai. Zindegi ruki nahi hai abhi, yeh to phir bhi chal rahi hai. Sirf waqt hi kahi theher sa gaya hai.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.