समय हमेशा एक सा नहीं रहता

समय हमेशा एक सा नहीं रहता…

चाहते तो हम सभी है कि अपने खुशनुमा पलों को अपनी मुट्ठी में कैद कर ले,
जी ले हर उस लम्हें को भरपूर और अपनी खुशियों को दुगुना कर ले
पर जीवन की ये गाड़ी हमेशा सीधे सीधे रास्तों पर नहीं चल पाती,
कभी उतार तो कभी चढ़ाव के साथ ज़िंदगी हमेशा एक सी नहीं रहती।

आज का ये एपिसोड जिंदगी के इन्हीं उतार चढ़ावों के बारे में बात करता है और सुझाता है कुछ रास्ते जो कि हमारी मुश्किलों को कुछ हद तक कम कर सके।

तो सुने इस एपिसोड को और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे।

http://Full episode link👇

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Episode-28-Samay-hamesha-ek-sa-nahi-rahta-e196g6c

क्यूँ सिर झुकाए खड़ा है तू?

क्यूँ सिर झुकाए खड़ा है तू, बोलियों के इस बाज़ार में?

जानता है गर कद्र अपनी तो बढ़ जा आगे,
झोंक कर बेबसी को अपनी, मजबूरियों की अंगार में।

आत्मबल और सच्चाई ख़ासियत है तेरे व्यक्तित्व की,
जो भूल गया है तू व्यर्थ के दिखावे की लड़ाई में।मत हो मायूस समाज के उन तानों से,

जो सपनों को तोलते है तेरे अपनी इच्छाओं के पैमाने पे।मिल जाएगा जवाब उन्हें भी, तेरे काम की गहराइयों में,

जो आँकते थे हुनर को तेरे, नाकामयाबियों की कतार में।

क्यूँ सिर झुकाए खड़ा है तू, बोलियों के इस बाज़ार में?

©®दीपिका

कोशिशें

अभी तो बस शुरुआत की है, मंजिले कई तय करना बाकी है।

हार और जीत से फर्क पड़ता नहीं मुझे, कोशिशें चलती रहे इतना ही काफ़ी है।

टूटेगा हौंसला नहीं ये चाहे अब जोर जितना भी लगा,

ये भी देखना दिलचस्प है कि दिल और दिमाग की जंग में भारी किसका पलड़ा।

इतना तो इल्म है मुझे भी अपनी जमीं के बारे में कि कहाँ सूखा है और कहाँ पानी है।

जानकर भी अगर अनदेखा करूँ बेज़ा गलतियों को तो ये सबसे बड़ी नादानी है।

दिल और दिमाग का तालमेल बेहद जरुरी है मेरे लिए,

चालाकी से हासिल की गयी खुशियाँ बेमोल और बेमानी है।

धीरे धीरे ही सही पर सही राह की तरफ कदम बढ़ाना है।

जरुरी नहीं की जहाँ भीड़ ज्यादा हो उसी को ही अपनाना है।

कुछ राहों का पता मंजिल को खुद नहीं होता,

तकदीरें सवार देती है उन तस्वीरों को भी जिसमें कभी किसी ने रंग नहीं भरा होता।

Check here!

“Hindi poetry” (Bahane) Excuses!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2019/06/19/bahane/