पतंग और डोरी जैसा है साथ।

उड़ चलूँ तेरे संग बेफिक्र खुले आसमां में,
नई ऊंचाईओं का स्वागत करने।
खुद को नई ऊर्ज़ा, नए उत्साह से भरने और
नए लक्ष्य को प्राप्त करने।

पतंग और डोरी जैसा है साथ तेरा मेरा,
बाँधे रखे तू मुझे अपने प्यार के बंधन में, कहलाऊँ मैं तेरी हमजोली और तू हमसफर मेरा।

कभी ना टूटने पाए ये बंधन है विश्वास का,
मेरी आस का और तेरे होने के एहसास का।
मेरे समर्पण का और तेरे धैर्य का,
मेरे स्वाभिमान का और तेरी शान का।

उड़ चलूँ तेरे संग बेफिक्र खुले आसमां में,
नई ऊंचाईओं का स्वागत करने।

खुद को नई ऊर्ज़ा, नए उत्साह से भरने और
नए लक्ष्य को प्राप्त करने।।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2019/11/27/tera-mera-sath/

©® दीपिका