जिंदगी तेरे रूप अनेक….

कभी देखा है जिंदगी को गौर से, कितनी समझ में आएंगी ये भी सबकी समझ के ऊपर ही निर्भर करता है।
जितने लोग, उतने नज़रिए, जितनी सोच, उतनी बातें। सही भी है, पांचों ऊंगलियां कब बराबर होती है और होनी भी नहीं चाहिए।

कभी हमारे नज़रिए से कुछ सही होता है तो कभी हम दूसरों के नज़रिए को समझ नहीं पाते, कभी उसी बात को हँसी में टाल देते है तो कभी उसी पर रूठ जाते है।कुल मिलाकर बस अपने अहम को पोषित करते रहते है।

शायद कभी अपने मैं से बाहर निकल ही नहीं पाते ,जो हमारे अहम को स्वीकार करता है वो सही और जो नहीं, वो गलत बन जाता है, दूसरे को अपनी जगह पर रख कर सोच पाने में हम आज भी सक्षम नहीं है।

शायद रिश्तों का मायाजाल है ये सब, जिसके मोह में हम कहीं उलझ कर रह जाते है, किसे छोड़े, कहाँ जाएँ, कुछ पता नहीं…जब तक मसरूफ़ियत रहती है तब तो ठीक है, वरना खाली मन तो ना जाने कहाँ तक टहल आता है।