लम्हे जो बीत गए है!

लम्हे जो बीत गए है, अब वापस कभी नहीं आएँगे।

चाहे अब उन्हें कितनी भी शिद्द्त से, फिर उनसे न मिल पाएँगे।

इसलिए कहते है कि आज में जिओ,

ये पल यादें ना बन जाएं, इन्हें संजोते चलो।

क्योंकि

लम्हे जो बीत गए है, अब वापस कभी नहीं आएँगे।

चाहे अब उन्हें कितनी भी शिद्द्त से, फिर उनसे न मिल पाएँगे।

जो भी करना चाहते हो, इसी पल में करो, इसी पल को जिओ,

कल कर लेंगे, कल कर लेंगे, इस आदत से बचो।

क्योंकि

कल क्या होगा, ये किसको पता?

कल की फ़िक्र में क्यूँ करे अपना आज लापता

बाद में तो पछताने के अलावा कुछ नहीं बचता,

क्यूँ जिए छलावे में जब आज हाथ में है शफ़ा।

क्योंकि

लम्हे जो बीत गए है, अब वापस कभी नहीं आएँगे।

चाहे अब उन्हें कितनी भी शिद्द्त से, फिर उनसे न मिल पाएँगे।

©®दीपिका

बीते कल की परछाई!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

पॉडकास्ट सुनें।

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Zindagi-Ka-Safar-ecn9ig

बीते कल की परछाई!

बीते कल की परछाई!

लोग कहते है कि बीते कल में जिया नहीं करते,

हाथों से रेत फिसल जाने के बाद मुट्ठी मला नहीं करते।

पर बीते कल की परछाईयाँ आपका पीछा कहाँ छोड़ती है?

कितना भी भूलने की कोशिश करो, कहीं न कहीं जहन में जिंदा रहती है।

कभी हिम्मत तो कभी उदासी देती है,

कभी कुछ नाज़ुक पल की यादें तो कभी आगे बढ़ने की नसीहत देती है।

बहुत कुछ सीखते है हम बीते कल की परछाइयों से,

कुछ की गई गलतियों से तो कुछ उन्हें ना दोहराने की कोशिश में खुद से की गई लड़ाईयों से।

इतना भी आसां नहीं होता, अतीत से पीछा छुड़ा लेना,

पर मिलता क्या है याद करने से, ये भी एक गंभीर बहस का मुद्दा है।

अगर अच्छाई लेकर आगे बढ़ रहे है, तो फिर भी ठीक है,

पर गर “रंजिश ए गम” पाल रखा है तो बहुत मुश्किल है।

जल्द से जल्द बाहर निकलना होगा इन परछाइयों से,

बीते दिनों की मायूँसियों से और तन्हाईयों से।

सच है कि बीते कल में जिया नहीं करते।

हाथों में से रेत फिसल जाने के बाद मुट्ठी मला नहीं करते।

©®दीपिका

दिल और दिमाग़ की जंग!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

इंतज़ार अच्छे वक़्त का!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/10/intezaar-acche-waqt-ka/

हज़ारों बहाने जीने के!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/