समय हमेशा एक सा नहीं रहता

समय हमेशा एक सा नहीं रहता…

चाहते तो हम सभी है कि अपने खुशनुमा पलों को अपनी मुट्ठी में कैद कर ले,
जी ले हर उस लम्हें को भरपूर और अपनी खुशियों को दुगुना कर ले
पर जीवन की ये गाड़ी हमेशा सीधे सीधे रास्तों पर नहीं चल पाती,
कभी उतार तो कभी चढ़ाव के साथ ज़िंदगी हमेशा एक सी नहीं रहती।

आज का ये एपिसोड जिंदगी के इन्हीं उतार चढ़ावों के बारे में बात करता है और सुझाता है कुछ रास्ते जो कि हमारी मुश्किलों को कुछ हद तक कम कर सके।

तो सुने इस एपिसोड को और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे।

http://Full episode link👇

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Episode-28-Samay-hamesha-ek-sa-nahi-rahta-e196g6c

जिंदगी तेरे रूप अनेक….

कभी देखा है जिंदगी को गौर से, कितनी समझ में आएंगी ये भी सबकी समझ के ऊपर ही निर्भर करता है।
जितने लोग, उतने नज़रिए, जितनी सोच, उतनी बातें। सही भी है, पांचों ऊंगलियां कब बराबर होती है और होनी भी नहीं चाहिए।

कभी हमारे नज़रिए से कुछ सही होता है तो कभी हम दूसरों के नज़रिए को समझ नहीं पाते, कभी उसी बात को हँसी में टाल देते है तो कभी उसी पर रूठ जाते है।कुल मिलाकर बस अपने अहम को पोषित करते रहते है।

शायद कभी अपने मैं से बाहर निकल ही नहीं पाते ,जो हमारे अहम को स्वीकार करता है वो सही और जो नहीं, वो गलत बन जाता है, दूसरे को अपनी जगह पर रख कर सोच पाने में हम आज भी सक्षम नहीं है।

शायद रिश्तों का मायाजाल है ये सब, जिसके मोह में हम कहीं उलझ कर रह जाते है, किसे छोड़े, कहाँ जाएँ, कुछ पता नहीं…जब तक मसरूफ़ियत रहती है तब तो ठीक है, वरना खाली मन तो ना जाने कहाँ तक टहल आता है।

उम्मीदों वाली राह!

एक रास्ता बंद हो तो दूसरा खुल सकता है।मुश्किलें कितनी ही गहरी क्यूँ ना हो, हल निकल ही सकता है।

असफलता बंद नहीं कर सकती, द्वार सफलता के,

अगर खोजे जाएं तो निकल आएंगे हज़ारों बहानें जीने के।

आसां लगता है हमें हार मान कर बैठ जाना।

ये तो मुझसे होगा ही नहीं, ये सोच कर जंग लड़ने से पहले हथियार डाल देना।

शायद एक छोटी सी कोशिश एक नई आशा का द्वार खोल सकती है।

जो कल तक लगता था तुझे असंभव, वही आस की मिट्टी एक नई कोंपल अंकुरित कर सकती है।

एक रास्ता बंद हो तो कोशिश करने से दूसरा खुल सकता है।

मुश्किलें कितनी ही गहरी क्यूँ ना हो, हल निकल ही सकता है।

~~©®दीपिका

https://youtu.be/RxJQiVYn8NU

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है,

जो खुद रोकर अपने आँसू खुद ही पोंछ लेता है।

अच्छा करता है जो किसी भ्रम में नहीं जीता है,

अपने स्वाभिमान को तार तार नहीं होने देता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

कोई आएंगा और पोछेंगा आँसू मेरे, इस भुलावे में नहीं जीता है।

खुद गिरता है तो खुद उठने की भी ताकत रखता है।

खुद देता है खुद को संबल, और खुद ही अपनी राह चुनता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

दूसरे आएंगे तो मुमक़िन है कि सिर्फ़ तेरी गलतियाँ ही बताएंगे,

घाव पर मरहम लगाने की बात कहकर, जख्मों को ही कुरेद जाएंगे

बची हुई आस और हिम्मत पर भी प्रश्न चिन्ह लगाएंगे।

तेरे दामन में है कितने दाग, ये बार बार तुझको ही गिनवाएंगे।

फिर आएंगे कहकर, बीच राह में ही छोड़ जाएंगे।

तू समझाता रह जाएंगा खुद को और वो अपनी दुनिया में ही मस्त हो जाएंगे।

ऐ मन! तू अच्छा करता है,जो खुद रोकर अपने आँसू खुद ही पोंछ लेता है।

अच्छा करता है जो किसी भ्रम में नहीं जीता है,अपने स्वाभिमान को तार तार नहीं होने देता है।

©®दीपिका

यहाँ पढ़े।

“क़ाफी हूँ मैं”!!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/05/18/kafi-hu-mai/

यहाँ सुने।

“अभी थमी नहीं ज़िंदगी”!!

https://youtu.be/W9gegLb7TlU

सपनों की उड़ान!

सपनों की उड़ान!

मैंने कहीं सुना था, सपने देखना बहुत जरूरी होता है।

बंद आँखों से ना सही, खुली आँखों से ही सही।

मैंने भी देखा है एक सपना।

उड़ान भरने का मेरी ख़्वाहिशों के साथ।

हाँ, ये है मेरी सपनों की उड़ान!

जहाँ मेरी उत्सुकता, मेरी सीखने की इच्छा मुझे ले आई है इस उन्मुक्त गगन में।

जहाँ मैं और मेरे सपने, खुशी से हिचकोले खा रहे है।

नज़र रखे हुए अपनी तैयारियों पर,

आगे बढ़ने की संभावनाओं और पहरेदारियों पर।

अब जब कदम आगे बढ़ा ही दिया है तो रुकने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता।

चाहे आए कितनी भी मुश्किलें, पीछे मुड़ने का तो ख्याल ही पैदा नहीं होता।

मैंने कहीं सुना था, सपने देखना बहुत जरूरी होता है।

बंद आँखों से ना सही, खुली आँखों से ही सही।

मैंने भी देखा है एक सपना।

उड़ान भरने का मेरी ख़्वाहिशों के साथ।

©®दीपिका

सुकून की तलाश!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/sukoon-ki-talash/

नई सहर रोशनी वाली!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/21/nayi-sahar-roshani-vali/

वक़्त जो रुकता नहीं।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/20/waqt-jo-rukta-nahi/

प्यार की ताक़त!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/18/pyar-ki-taakat/

माँ की जादूगरी!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/17/maa-ki-jaadugari/

नज़रिये का फेर!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/16/nazariye-ka-pher/

मन की सुंदरता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

थमी नहीं है ज़िंदगी!

सूखी मिट्टी में पानी की बूँद जैसी ज़िंदगी,

तपती गर्मी में ठंडी छाँव जैसी ज़िंदगी,

मुश्क़िलों से आँख मिचौली करती ज़िंदगी,

कभी हँसाती तो कभी रुलाती ज़िंदगी।

चाहे कुछ भी हो जाएं, हार ना मानती ज़िंदगी,

चलते रहिए, आगे बढ़िये!!

अभी थमी नहीं है ज़िंदगी।

आख़िरी सांस तक मौत से लड़ती ज़िंदगी।

अपनों को हौंसला दिलाती ज़िंदगी।

गिरते हुए को उठाती ज़िंदगी।

कभी भयानक तो कभी सबसे खूबसूरत रूप दिखाती ज़िंदगी।

चाहे कुछ भी हो जाएं, हार ना मानती ज़िंदगी,

चलते रहिए, आगे बढ़िये!!

अभी थमी नहीं है ज़िंदगी।

रोज नये पाठ पढ़ाती ज़िंदगी,

मुश्क़िलों को सुलझाती ज़िंदगी,

कभी गले लगाती तो कभी आंख दिखाती ज़िंदगी,

तो कभी अपना बनाकर पराये होने का अहसास करवाती ज़िंदगी।

चाहे कुछ भी हो जाएं, हार ना मानती ज़िंदगी,

चलते रहिए, आगे बढ़िए!!

अभी थमी नहीं है ज़िंदगी।

©® दीपिका

https://youtu.be/W9gegLb7TlU

सुकून की तलाश!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/sukoon-ki-talash/

नई सहर रोशनी वाली!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/21/nayi-sahar-roshani-vali/

वक़्त जो रुकता नहीं।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/20/waqt-jo-rukta-nahi/

प्यार की ताक़त!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/18/pyar-ki-taakat/

माँ की जादूगरी!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/17/maa-ki-jaadugari/

नज़रिये का फेर!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/16/nazariye-ka-pher/

मन की सुंदरता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

नज़रिए का फेर!

ये तो बस नज़रिए पर निर्भर करता है,

किसी को गिलास आधा खाली तो किसी को आधा भरा दिखाई देता है।

किसी को सिर्फ कमियां तो किसी को उनसे बाहर निकलने का रास्ता नज़र आता है।

सही तो है,

ये तो बस नज़रिए पर निर्भर करता है।

ये उनका नज़रिया ही तो होता है जो हमें कभी अर्श पर तो कभी फर्श पर बिठाता है।

कभी उनकी आँखों का तारा तो कभी उनकी नज़रों से गिराता है।

ये नज़रिया ही तो है जो हमें कभी देवदूत की संज्ञा तो कभी पतन की ओर ले जाता है।

ये तो बस नज़रिए पर निर्भर करता है

किसी को गिलास आधा खाली तो किसी को आधा भरा दिखाई देता है

जैसा हम सोचते है, वैसा ही हमारा नज़रिया बनता जाता है।

हमें पता भी नहीं चलता, कब दूसरे के लिए बोला हुआ एक एक गलत शब्द, हम पर ही भारी पड़ जाता है।

ये नज़रिया ही तो है जो हमें कभी देवदूत की संज्ञा तो कभी पतन की ओर ले जाता है।

©®दीपिका

मन की सुंदरता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

पॉडकास्ट सुने।

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Zindagi-Ka-Safar-ecn9ig

मन की सुंदरता!

बाहरी काया पर तो सबका ध्यान होता है पर भीतर क्या है,

ये कितने जानना चाहते है?

अगर भाया नहीं रंग रूप फिर भी,

मन की सुदंरता के लिए कितने आगे आते है?

शायद बहुत कम मिलेंगे जिनके लिए मन का सुंदर होना ज्यादा जरूरी होता है, तन के सुंदर होने से।

उन्हें आकर्षण होता है उनकी बातों का, उस आभा का, ना कि फ़र्क पड़ता है क्षणभंगुरी काया से।

बाहरी आकर्षण का क्या है?

आज है ,कल नहीं रहेगा!

भीतरी सुदंरता ही अलौकिक है, शाश्वत है, इसका अस्तित्व तो सदा बना रहेगा।

जिसके मन में मैल न हो उसकी आभा में एक अलग सी चमक दिखाई देती है।

महसूस कर सकते हो उस रूहानी अनुभव को, एक इबादत सी, एक दुआ सी सुनाई देती है।

बाहरी काया पर सबका ध्यान होता है पर भीतर क्या है,

ये कितने जानना चाहते है?

अगर भाया नहीं रंग रूप फिर भी,

मन की सुदंरता के लिए कितने आगे आते है?

©®दीपिका

लम्हे जो बीत गए है।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

पॉडकास्ट सुने।

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Zindagi-Ka-Safar-ecn9ig

हज़ारों बहाने जीने के!

एक रास्ता बंद हो तो दूसरा खुल ही जाता है।मुश्किलों की जड़ें कितनी ही गहरी क्यूँ ना हो, हल निकल ही आता है।

असफलता बंद नहीं कर सकती है द्वार सफलता के,

अगर हल खोजे जाएं तो हज़ारों बहाने निकल ही आएंगे खुल के जीने के।

कितना आसान होता है, हार मान कर बैठ जाना,

ये तो मुझसे होगा ही नहीं, ऐसा सोचकर जंग लड़ने से पहले ही हथियार डाल देना।

शायद एक कोशिश एक नई आशा का द्वार खोल सकती है,

जो कल तक था असंभव, उस पर विश्वास की एक नई कोंपल अंकुरित हो सकती है।

जरूरत है तो बस थोड़ा धैर्य रखने की,लगातार कोशिशें करने की,

हिम्मत नहीं हारने की,बिगड़ी बनाने की और अनसुलझी सुलझाने की।

एक छोटी सी हार से क्यूँ जिंदगी अपने मायने खो देती है?

क्या सस्ती है जान इतनी कि हर चौराहे पर बोली लगा करती है।

विश्वास रखो कि

एक रास्ता बंद हो तो दूसरा खुल ही जाता है।मुश्किलों की जड़ें कितनी ही गहरी क्यूँ ना हो, हल निकल ही जाता है।

©® दीपिका

गमों के बादल!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत जो कुछ खो सी गई है।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

इंसानियत जो कुछ खो सी गई है।

स्वागत है आप सभी लोगों का “बातें कुछ अनकही सी” के पाँचवे भाग में जहाँ आज हम बात करेगें मानवता की, इंसानियत की, जो आजकल कुछ खोई हुई सी लगती है। पूरी तरह से तो नहीं क्यूँकि कुछ लोग है जो कि आज भी रोशनी का दिया जलाए हुए है।और आशाओं की किरणें बिखेर रहे है।

आशा करती हूँ कि ये उजाला सब जगह फैले और हम फिर से अपनी जड़ों से जुड़े।

इंसानियत जो कुछ खो सी गई है

कहाँ ढूंढू इसे, क्यूँ थोड़ी रूठी हुई सी है।

कभी सज़दे तो कभी किसी की दुआओं में अक़्सर मिल जाया करती थी मुझे।

पता नहीं क्यूँ अब लाख ढूढंने पर भी दिखती नहीं है मुझे।

ऐसा तो नहीं है कि रहबरों की कमी है इस “महफ़िल ए दुनिया” में,

पर जो पहले घर घर थी क्यूँ अब कुछ चंद ठिकानों पर ही टिक गई है।

इंसानियत जो कुछ खो सी गई है, कहाँ ढूंढू इसे, क्यूँ थोड़ी रूठ सी गई है

इंसान को उसकी इंसानियत से ही पहचाना जाता है, दूसरे चोले तो औरों के भी पास मिलेंगे।

ये रहमत ख़ुदा की है जो खुद की पहचान में खुद से मिलने की वज़ह बनेगें।

मुश्किल कोई नहीं है, शायद बस थोड़ा रास्ता भटक गए है।

भागते भागते कुछ चंद चीज़ों के पीछे इंसानी खूबसूरती को भूल गए है।

ये गहना है, श्रृंगार है इंसानों का, जो उसे खुद से जोड़ कर रखता है,

वरना तो कब के बिख़र गए होते हम, अगर इंसानियत का सहारा नहीं मिला होता।

अगर है वो खूबी तो क्यूँ जाऱ जाऱ सी हो गई है।संभालते संभालते भी क्यों इंसानियत तार तार सी हो गई है।

इंसानियत जो कुछ खो सी गई है,कहाँ ढूंढू इसे, क्यूँ थोड़ी रूठी हुई सी है।

आशा करती हूँ कि आज की कविता आपको पसंद आई होगी। मिलती हूँ कल फिर एक नए विषय के साथ। तब तक के लिए आपको छोड़ कर जाती हूँ इन सवालों के साथ। सोचिएगा जरूर।

Podcast Episode Link👇

©®दीपिका

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

पॉडकास्ट सुने!https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/DuaayeBlessings-ec1mq3

वीडिओ लिंक

https://youtu.be/j0cbn7qYkUM