इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा…

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा,

जिन ऊँगलियों को पकड़ कर सीखा है चलना, उनसे हाथ न छुड़ा।

पथराई आँखे, काँपते हाथ शायद बहुत कुछ कहना चाहते है तुझसे,

इस भाग दौड़ की आपाधापी में तू इनसे नज़रें ना चुरा।

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा…..

तेरा तुझमें बहुत कुछ उनका सा भी है,

तुझे सम्पूर्ण बनाने में जिसने अपना खून पसीना दिया।

अब आगे निकल जाने पर उनको पिछड़ा ना गिना,

सिर्फ़ बातों से नहीं, अपने प्यार से उनके प्यार की क़ीमत चुका।

इल्तेज़ा इतनी कि तू अपनी जड़ों को मत भूल जा….

©®दीपिकामिश्रा

Welcome to the podcast poetry👇

https://anchor.fm/deepika-mishra/episodes/Episode-25-Tu-apni-jado-ko-mat-bhul-ja-e13m6kv

YouTube poetry👇

https://youtu.be/4tGnUFE4ZjE

Shower your love🌼🌼

Regards & Gratitude,

Deepika Mishra

काश!! सब मन चाहा होता…


कितने लोगों ने कितनी ही बार ये सोचा होगा,
सोते जागते इन सपनों को बुना होगा।

कितना अच्छा होता कि सब कुछ मन चाहा होता,जो मन होता वो कर जाता, जहाँ मन चाहे टहल आता।

काश!! सब मन चाहा होता…तो कितना अच्छा होता।

पर जिंदगी इंस्टेंट नूड्ल्स की तरह नहीं होती वो तो एक स्वादिष्ट डिश की तरह होती है,

जिसे पकने में काफ़ी समय, काफ़ी धैर्य, काफ़ी कौशल और काफ़ी कला लगती है।

जहाँ नमक, मिर्च और मसालों का समायोजन एकदम संतुलित होता है,
कोई भी स्वाद एक दूसरे को ओवर पॉवर नहीं कर रहा होता है।

वैसे ही ज़िंदगी होती है जहाँ बहुत से रिश्ते बनते और बिगड़ते रहते है,
आगे बढ़ने और ऊँचा बनने की लड़ाई में एक दूसरे से कितना झगड़ते रहते है।

खुद को ऊँचा उठाने की कोशिश करे, दूसरों को गिराने की नहीं,
सब कुछ मनचाहा मिल जाता तो जिंदगी का ये स्वाद रह जाता, कहिए सही कह रही हूँ या नहीं।

जो मनचाहा मिलता है उसका स्वागत करे, उसका आंनद ले।
और जो नहीं मिला है उसके बारे में सोचकर खुले रास्तों को बंद ना करे।

©®दीपिकामिश्रा

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करे👇

https://youtu.be/FuoT8pxZokM

चमक उसके स्वाभिमान की…

कौन कहता है कि ये सच नहीं, वो करती सब है, पर सबको जँचती नहीं।

सारा माहौल संभालती है पर अपने अंदर का माहौल बिगड़ने के भय से कभी बचती नहीं।

वो लड़ती रहती है रोज़ अपने अंदर की कशमकश से,

अपने बारे में सोचे या करे समझौता हर छोटे बड़े किस्से से।

आसां नहीं होता अपने आप को उन चीज़ों के लिए मना लेना,

स्वच्छंद उड़ने वाले पंछी को एक छोटे से पिंजरे में कैद कर देना।

अपनी परवाज़ को वो एक ऊँचाई देना चाहती है,

पर अपने स्वाभिमान के साथ समझौता उसे कतई पसंद नहीं है।

इसी तरह चलते चलते वो काफ़ी सफ़र तय कर लेती है,

आते जाते दो राहों पर भी वो मंज़िल नहीं वो खोती है।

उसके भीतर की टोह लेना इतना भी आसान नहीं होता,

वो सिर्फ़ एक औरत नहीं, एक पूरा संसार उसके आँचल में है बसता।

~~दीपिकामिश्रा

रंगों की बोली…

रंग बदलती इस दुनिया में कुछ रंग ऐसे भी है

जिन से बनती है ये ज़िन्दगी खूबसूरत और बेहतरीन।

जो ये रंग ना हो तो

सब कुछ होते हुए भी लगे फ़ीका फ़ीका जैसे नमक बिना लगे नमकीन।

वो रंग है अपनेपन का, जो खून के रिश्तों का मोहताज़ नहीं होता।

वो रंग है दोस्ती का, जो यारों के लिए हर डाँट सुनने को तैयार रहता है।

वो रंग है सादगी का, जो सारी चकाचौंध को खुद में समा लेता है।

वो रंग है समर्पण का,जो अपनों की सुध में खुद को भुला देता है।

वो रंग है सच्चाई का, जो हर झूठ को आईना दिखा देता है।

वो रंग है अच्छाई का, जो बुराई को भी खुद में समा लेता है।

वो रंग है खुशी का, जो गमों को भुला दे।

वो रंग है हँसी का जो फिर से जीना सीखा दे।

~~दीपिकामिश्रा

अर्ज़ किया है…ये जरूरी तो नहीं।

अपनापन खून के रिश्तों की ड़ोर से बंधा हो,

ये जरूरी तो नहीं।

मैं सोचती हूँ जैसा अपने बारे में,

तुम भी सोचो वैसा मेरे बारे में ये जरूरी तो नहीं।

तुम आज़ाद हो, मेरे बारे में अपनी राय बनाने में,

मुझे मेरी दृष्टि में हेय बनाकर बार बार नज़रों से गिराने में।

पर…पर

तुम्हारे प्रयासों को सफलता तब ही मिलेगी,

जब मैं भी तुम्हारी सोच में अपनी मौन सहमति दर्शा दूँ।

तुम बनाना चाहते थे जैसा मुझे शनै शनै मैं भी खुद को वैसा बनता देखूँ।

भीड़ से अलग सोचने में और अलग खड़ा रहने में एक अलग सी हिम्मत लगती है,

जाने सब करते है क्यूँ ऐसा मेरे साथ ही, इस बारे में सोचना मुझे वक़्त की बर्बादी लगती है।

अपना काम करना और खुश रहना, ये मेरे जीने का सिद्धांत हो सकता है,

सबकी ज़िंदगी का भी यही हो सिद्धांत, ये जरूरी तो नहीं।

अपनापन खून के रिश्तों की ड़ोर से बंधा हो,

ये जरूरी तो नहीं।

मैं सोचती हूँ जैसा अपने बारे में,

तुम भी सोचो वैसा मेरे बारे में ये जरूरी तो नहीं।

~~दीपिकामिश्रा

आप इस कविता को यहाँ सुन भी सकते है, पसंद आये तो चैनल को जरूर सब्सक्राइब करे👇

https://youtu.be/TgocQn4Yicc

नई खुशियों के द्वार

नई खुशियों के द्वार…

जब खुद को समझाना मुश्किल लगने लगे, जब हर अपना बेगाना लगने लगे,

जब हर बात दिल को दुःखाने लगे, जब आंखें भी सबसे नज़रें चुराने लगे।

तो समझ लेना कि मन घावों से भर गया है, ना चाहते हुए भी मन में कुछ गढ़ सा गया है।

ये समय है खुद को नकारात्मक विचारों से दूर करने का,जो घट चुका है उसे भुलाकर आगे बढ़ने का।

क्योंकि जब तक हम उन्हीं बातों में उलझे रहेंगे,अपने उत्साह को पल पल खोते रहेंगे।

जरूरी नहीं कि एक बार जो गलत हुआ है, वो बार बार ही अपने आप को दोहराएगा,जो हो रहा है उसमें छिपा हो सकता है कोई मक़सद जिसका आभास आपको भविष्य ही करवाएंगा।

अपनी खुशियों की चाबी अपने हाथ में ही रखिये,दूसरों को मत दीजिये, ये समझना भी अब जरूरी हो जाता है,

कब तक भटकते रहोगे आप गम के अंधेरों में, खुद को एक मौका देना भी नई खुशियों के द्वार खोल जाता है।।

©®दीपिका मिश्रा

बातें कुछ अनकही सी! भावनाओं का तूफान।

बातें कुछ अनकही सी ,जहाँ शब्द नहीं भावनाएँ बोलती है।चलिए मेरे साथ इस सफ़र पर!

चलो जीरो से शुरू करते है!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/30/phir-kare-zero-se-shuruvaat/

भावनाओं का एक्स रे!!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/28/bhavanayo-ka-xray/

वक़्त जो ठहर सा गया है!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/27/waqt-jo-thahar-sa-gaya-hai/

यादों की बारात!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/29/yaadon-ki-baarat/

वजह तुम हो!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/24/vajah-tum-ho/

सपनों की उड़ान!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/24/sapno-ki-udaan/

थमी नहीं है ज़िंदगी!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/thami-nahi-hai-zindagi/

सुकून की तलाश!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/22/sukoon-ki-talash/

नई सहर रोशनी वाली!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/21/nayi-sahar-roshani-vali/

वक़्त जो रुकता नहीं।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/20/waqt-jo-rukta-nahi/

प्यार की ताक़त!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/18/pyar-ki-taakat/

माँ की जादूगरी!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/17/maa-ki-jaadugari/

नज़रिये का फेर!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/16/nazariye-ka-pher/

मन की सुंदरता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/15/man-ki-sundarta/

लम्हे जो बीत गए है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/14/lamhe-jo-beet-gaye-hai/

बीते कल की परछाई!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/13/beete-kal-ki-parchaai/

जंग दिल और दिमाग की!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/11/jang-dil-aur-dimag-ki/

हज़ारों बहाने है जीने के!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/09/hazaro-bahane-hai-jeene-ke/

गमों के बादल!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/08/gamo-ke-baadal/

वो एक फ़रिश्ता!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/vo-ek-pharista/

इंसानियत कुछ खो सी गई है!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/06/insaaniyat-jo-kuch-kho-si-gayi-hai/

और भी दर्द है इस ज़माने में!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/04/aur-bhi-dard-hai-is-zamane-main/

चलो फिर से शुरू करते है।https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/03/chalo-phir-se-shuru-karte-hai/

बेमक़सद जीना भी कोई जीना है?https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/bemaksad-jina-bhi-koi-jina-hai/

अजीब दास्तां है ये!https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/04/01/ajeeb-dastaan-hai-ye/

उम्मीदों वाली राह!

एक रास्ता बंद हो तो दूसरा खुल सकता है।मुश्किलें कितनी ही गहरी क्यूँ ना हो, हल निकल ही सकता है।

असफलता बंद नहीं कर सकती, द्वार सफलता के,

अगर खोजे जाएं तो निकल आएंगे हज़ारों बहानें जीने के।

आसां लगता है हमें हार मान कर बैठ जाना।

ये तो मुझसे होगा ही नहीं, ये सोच कर जंग लड़ने से पहले हथियार डाल देना।

शायद एक छोटी सी कोशिश एक नई आशा का द्वार खोल सकती है।

जो कल तक लगता था तुझे असंभव, वही आस की मिट्टी एक नई कोंपल अंकुरित कर सकती है।

एक रास्ता बंद हो तो कोशिश करने से दूसरा खुल सकता है।

मुश्किलें कितनी ही गहरी क्यूँ ना हो, हल निकल ही सकता है।

~~©®दीपिका

https://youtu.be/RxJQiVYn8NU

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है,

जो खुद रोकर अपने आँसू खुद ही पोंछ लेता है।

अच्छा करता है जो किसी भ्रम में नहीं जीता है,

अपने स्वाभिमान को तार तार नहीं होने देता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

कोई आएंगा और पोछेंगा आँसू मेरे, इस भुलावे में नहीं जीता है।

खुद गिरता है तो खुद उठने की भी ताकत रखता है।

खुद देता है खुद को संबल, और खुद ही अपनी राह चुनता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

दूसरे आएंगे तो मुमक़िन है कि सिर्फ़ तेरी गलतियाँ ही बताएंगे,

घाव पर मरहम लगाने की बात कहकर, जख्मों को ही कुरेद जाएंगे

बची हुई आस और हिम्मत पर भी प्रश्न चिन्ह लगाएंगे।

तेरे दामन में है कितने दाग, ये बार बार तुझको ही गिनवाएंगे।

फिर आएंगे कहकर, बीच राह में ही छोड़ जाएंगे।

तू समझाता रह जाएंगा खुद को और वो अपनी दुनिया में ही मस्त हो जाएंगे।

ऐ मन! तू अच्छा करता है,जो खुद रोकर अपने आँसू खुद ही पोंछ लेता है।

अच्छा करता है जो किसी भ्रम में नहीं जीता है,अपने स्वाभिमान को तार तार नहीं होने देता है।

©®दीपिका

यहाँ पढ़े।

“क़ाफी हूँ मैं”!!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/05/18/kafi-hu-mai/

यहाँ सुने।

“अभी थमी नहीं ज़िंदगी”!!

https://youtu.be/W9gegLb7TlU

वक़्त का मोल

हर किसी के पास उतना ही वक़्त होता है,

समय का पहिया भी सबके लिए बराबर ही घूमता है,

और यहाँ तक कि सूरज का निकलना और अस्त होना भी सबके लिए एक समान ही होता है।

जब प्रकृति ने ही भेदभाव नहीं किया हमारे साथ, तो हम कैसे कर सकते है?

क्यूँ खुद को कम आँक कर खुद से ही धोखा कर सकते है?

क़ाबिल है सभी, बस अपनी क्षमताएँ पहचानने में देर कर देते है।

जो समझ जाते है अपनी अहमियत, वो फिर कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखते है।

वो फिर कभी पीछे मुड़ के नहीं देखते है।

~~दीपिका