Happy New Year 2021

खुदा का शुक्र है कि भरम ये टूट गया, जिसे समझते थे हम आशियाँ अपना वो तो किसी और का ही मकान निकला।

सोच रही थी कि इस साल जो भी हुआ, हो गया, बीत गया, अब नए साल का आगमन है…

पर इस साल बहुत से लोगों ने अपने करीबियों को खो दिया, कैसे संवेदनाएं व्यक्त करूँ, पता नहीं।

बस ये साल मुझे सिखा के जा रहा है कि ज़िंदगी के जितने भी दिन बचे है उन्हें बिना किसी मलाल के अपनों के साथ जी लो।

आशा करती हूँ कि नया साल हम सभी के लिए आशाओं के नए सूरज के साथ उदय हो।

~~दीपिकामिश्रा