एक औरत का आत्मसम्मान!!

दूसरों के लिए छोटा,
पर उसके लिए उसका आत्मसम्मान,
शायद तब सबसे बड़ा हो जाता है।

अपने ज़मीर की आवाज़ सुनना,
अब उसके लिए बेहद ज़रूरी हो जाता है।
हर दूसरे पल सवाल उठाया जाता है,
जब उसके अस्तित्व पर।

मौन रहकर भी, बिना बोले ही,
सिर्फ़ भंगिमाओं से उसे जब दोषी ठहराया जाता है।

खो देती है वो अपनी पहचान,
अपनी नज़रों में ही,
जब उसे अपना ही चेहरा,
दूसरों के आइनों में दिखाया जाता है।

पड़ जाती है सोच में,
कि किया क्या है ऐसा उसने?
जो हर गलती का जिम्मेदार उसे ही ठहराया जाता है।

कि हर गलती का जिम्मेदार उसे ही ठहराया जाता है।

दूसरों के लिए छोटा पर
उसके लिए उसका आत्मसम्मान
शायद तब सबसे बड़ा हो जाता है।

~~दीपिका

कविता सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें।

https://youtu.be/zpBLaChkb14

अगर पसंद आएं तो शेयर करे और सब्सक्राइब करे।

16 thoughts on “एक औरत का आत्मसम्मान!!

  1. Bilkul sahi. Har aurat ke liye atamasamman bahut zaroori hota hai. Usko agar koi thes pahuchaega shabdon se ya sirf acharan se to woh kaise sahegi? aur sehena bhi nahi chaiye.

    Liked by 2 people

  2. Very well said dear..it is sad reality of our society where women bear a lot and bound to be quiet despite having no mistake. Very beautifully written, as usual.

    Like

  3. Yeah hopefully now women stand up for themselves and are more aware of what is going on around them. We should be brave and not be scared of what society will say.

    Like

  4. Once again, an amazing piece. Ek aurat ka aatmsamman sabse badi cheez hota hai uske liye aur hona bhi chahiye. Lovely poem, Deepika.

    Like

  5. This is a great write-up by you. I love everything related to women power and all. We women are strong enough to handle any situation and our self respect is very important..

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.