ऐ मन! तू अच्छा करता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है,

जो खुद रोकर अपने आँसू खुद ही पोंछ लेता है।

अच्छा करता है जो किसी भ्रम में नहीं जीता है,

अपने स्वाभिमान को तार तार नहीं होने देता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

कोई आएंगा और पोछेंगा आँसू मेरे, इस भुलावे में नहीं जीता है।

खुद गिरता है तो खुद उठने की भी ताकत रखता है।

खुद देता है खुद को संबल, और खुद ही अपनी राह चुनता है।

ऐ मन! तू अच्छा करता है।

दूसरे आएंगे तो मुमक़िन है कि सिर्फ़ तेरी गलतियाँ ही बताएंगे,

घाव पर मरहम लगाने की बात कहकर, जख्मों को ही कुरेद जाएंगे

बची हुई आस और हिम्मत पर भी प्रश्न चिन्ह लगाएंगे।

तेरे दामन में है कितने दाग, ये बार बार तुझको ही गिनवाएंगे।

फिर आएंगे कहकर, बीच राह में ही छोड़ जाएंगे।

तू समझाता रह जाएंगा खुद को और वो अपनी दुनिया में ही मस्त हो जाएंगे।

ऐ मन! तू अच्छा करता है,जो खुद रोकर अपने आँसू खुद ही पोंछ लेता है।

अच्छा करता है जो किसी भ्रम में नहीं जीता है,अपने स्वाभिमान को तार तार नहीं होने देता है।

©®दीपिका

यहाँ पढ़े।

“क़ाफी हूँ मैं”!!

https://myaspiringhope.wordpress.com/2020/05/18/kafi-hu-mai/

यहाँ सुने।

“अभी थमी नहीं ज़िंदगी”!!

https://youtu.be/W9gegLb7TlU

41 thoughts on “ऐ मन! तू अच्छा करता है।

  1. कोई रूह दा साथी नई
    ए नब्ज़ भी इक दिन रुक जाऊ
    दिल ता पागल है
    दो घड़ियां रोके चुप कर जउ
    Have you heard this beautiful number by Hans Raj Hans?
    Sums up what you’ve written. Bahut achcha likha hai

    Liked by 2 people

  2. Hum sabhi ko ye seekhna hoga ki thud ke aanson poche. Koi aayega , hame dilasa dega aur hamare aansun pochhega is bhulave me rehna bekar hai. Akhir har kist ko apne hisse ke gam aur khushi dono ka samna khud hi krna padta hai.

    Liked by 1 person

  3. Apne aansooon ke paani se apne ghum ke nishaan mita do. Zindagi mein hanseen pal hai aur ayenge, unke liye raah mein umeedon ke phool bicha do.
    See, you have made me a poet too, Deepika!:)

    Liked by 1 person

  4. You know Dipika, I m a kind of person who does lots of things what my “Mann” says.. sometimes I think that is there any people also who feel the same way as I feel. Today after reading your poem, realized yes..there are…behad Sundar rachna..loved the topic so much.

    Liked by 1 person

  5. i also believe that we are all good people… its just that some of us go through life and stop listening to our hearts and minds… while some of us listen to our hearts despite that…

    Liked by 1 person

  6. Aww I am becoming a fan of your poems Dipika. Yes in fact it is only the heart that doesnt lets one down. Nobody else picks you up like your own heart and will.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.