मज़बूरी!!

वो आएं थे ढेरों आरजूएं लेकर शहर की ओर,

अब जब जा रहे है तो बहुत सी ख़्वाहिशें दफ़न कर जा रहे है।

पता नहीं अब कब वापस आएंगे इन रास्तों पर मुड़ कर,

जिन पर नंगे पाँव चले जा रहे है।।

जिन्हें अपने सपनों को मंज़िल पहुँचाने के लिए चुना था,

अब उन्हीं राहों को पीछे छोड़े जा रहे है।

जो बनाते थे कभी सबके सपनों का घर,

आज वही एक छत और दो जून की रोटी की तलाश में

भटके जा रहे है।।

वो आएं थे ढेरों आरजूएं लेकर शहर की ओर,

अब जब जा रहे है तो बहुत सी ख़्वाहिशें दफ़न कर जा रहे है।।

जो गलियां, जो शहर लगता था कभी अपना सा,

अब वही क्यूँ परायों की गिनती में खड़े नज़र आ रहे है।

सोचा ना था!!

एक दिन ऐसा भी आएंगा जब सड़के सूनी और शहर

वीरान हो जाएंगा।

कोई मज़दूर बेउम्मीद होकर वापस लौट जाएंगा।।

©® दीपिका

इस लिंक पर क्लिक करके कविता सुनें।

https://youtu.be/APJPn4gEY7w

31 thoughts on “मज़बूरी!!

    1. Its sad that so many came to big cities in a hope of making a better future but they would have never imagined anything of this sort will happen.

      Liked by 1 person

  1. वो आएं थे ढेरों आरजूएं लेकर शहर की ओर,

    अब जब जा रहे है तो बहुत सी ख़्वाहिशें दफ़न कर जा रहे है।

    बहुत दर्द भरा काल।

    Liked by 1 person

  2. These are pure emotions expressed with concern and care. Moreover we even don’t know when this entire thing is going to end. The dilema and the pressure felt by these humans are immeasurable.

    Liked by 1 person

  3. We have lockdown so that less number of us get ill. But to survive and earn many want the lockdown to be lifted which is even more scarier… Nice write up….

    Liked by 1 person

  4. This pandemic has create a havoc for people who work on daily basis. you had shared their pain and feeling perfectly in this post. hope everything get fine soon and we all get back to normal lives.

    Liked by 1 person

  5. मैंने भी कोशिश की है ‘सुशांत सिंह राजपूत’ के लिए कुछ लिखने की शायद आप उन भावनाओं को और गहराई से समझ पाए। वक़्त निकाल के पढियेगा जरूर।🙏🙏

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.