मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

मैं वो हूँ, जिसमें सृजन और विध्वंस की शक्ति है।

मैं वो हूँ, जो करती अपने परिवार की भक्ति है।

मैं वो हूँ, जिसे समझा जाता है कि वो कभी नहीं थकती है।

मैं वो हूँ, जो पैदा होने से मरने तक बिना रुके सबका पोषण करती है

मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

मैं वो हूँ जो अस्तित्व पर चोट लगने पर भी अपने पथ से नहीं डिगती है।

लगी रहती है खामोशी से सबके कामों में, वो चुप रहती है पर डरती बिल्कुल नहीं है।

मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

क्या समझा मैंने, क्या है नारी? क्या हूँ मैं?

मैं ये इसलिए नहीं बोल रही हूं कि मैं खुद एक नारी हूँ।मैंने समझा है जाना है इसे बड़े क़रीब से, ये एक विचित्र सी कलाकारी है।

ये एक नारी है।

ये एक नारी है।

मैंने देखा है उसे कई बार घुटते हुए,

और आँखें भीगी होने पर भी मुस्कुराते हुए देखा है।

वो तब तक उठाती नहीं है सवाल, किसी के क़िरदार पर,

जब तक उसे समझ नहीं आता है कि अब खतरा है उसके खुद के अस्तित्व पर।

पर सवाल उठाते ही क्यूँ उसकी परिभाषा बदल दी जाती है?

कुल की नाज़ से सबसे अनचाहा टुकड़ा कैसे वो बन जाती है?

ये एक नारी है।

ये एक नारी है।

क्यूँ नहीं सुनना और समझना चाहते लोग उसके भी पक्ष को।

वो भी उन्हीं पैमानों को जीती है जिस पर सही ठहराते है वो स्वयं को।

सीता भी वही है, काली भी है वो, कौनसे रूप में देखना चाहते हो आप उसको।

ये काफी हद तक निर्भर करता है आपकी अपनी समझ को।

प्यार पाकर दिल खोल के रख देती है वो अपना।

इतना भी आसां नहीं होता उसके लिए एक पराए घर को अपना बना लेना।

पर वो ये सब इसलिए कर लेती है क्यूँकि वो खुद को समझती है कि वो दो घरों का हिस्सा है।

पर दिल टूट जाता है उसका, जब उसे महसूस होता है कि वो तो बस एक अनकहा और अनछुआ सा क़िस्सा है।

ये एक नारी है।

ये एक नारी है।

दूसरों के नाम के साथ अपना नाम जोड़कर खुश हो जाती है।

ये तो वो संगम है जहाँ दरिया आकर मिल जाती है।

ये तो गागर है अथाह प्रेम की, बूँद बूँद से सागर भर जाती है।

देती है सर्वस्व अपना, अपनों की झोली खुशियों से भर जाती है।

ये एक नारी है। ये एक नारी है।

डरती नहीं है, झुकती नहीं है, खुद को ही चुनौती देती है हर दिन।

मकान घर नहीं बनता, बस होती है चार दीवारें इसके बिन।

जो समझते है इसकी अहमियत को, सिर आँखों पर बिठाकर रखते है।

बहुत कुछ बदल रहा है पर कुछ और भी बदलता देखने की इच्छा रखते है।

मैं करती हूँ सलाम उन लोगों को, जो मेरा साया बन मेरे साथ खड़े रहते है।

मेरी गलतियों को नज़रअंदाज़ कर भी मेरे हुनर को बढ़ावा दिया करते है।

मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

https://myaspiringhope.wordpress.com/2019/08/30/aurat-teri-kahani/


“This post is a part of ‘The Woman That I Am’ Blog Hop #TheWomanThatIAm organized byRashi Roy and Manas Mukul #RRxMM. The Event is sponsored by Kraffitti

134 thoughts on “मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

  1. बहुत ही प्रभावशाली शब्दों द्वारा आपने एक औरत की गरिमा को विस्तृत रूप से दर्शाया है । अत्यंत सराहनीय ।

    Liked by 1 person

  2. Atyant bhaavpoorn rachan hai par main ek baat ki or aapka dhyan dilwana chahungi Deepika aadhi aabadi stri, matlab aadhi aabadi purush, ab humein in praayogon se bachna hoga, jo lg khud ko anya gender maante hain unka kya .

    Aasha hai aap bhavishy mein kyal rakhengi.All the best

    Liked by 1 person

    1. Bilkul thik kaha aapne! Things are changed for the rest of the population and we should keep in mind. Next time I will be more careful. Thanks for the suggestion, Pooja Ji.

      Like

  3. Wow wow wow, what a powerful poem it is!! Deepika, some of lines from your poem are engraved in my heart. Like, that line of Astitva, and, Sita bhi wahi hai, Kali bhi wahi hai. So deep, women tolerate, women protest. You have written each and every look of a woman, so intricately. I don’t know much Hindi, I wish I have commented on Hindi, I could express my emotions better. In one word, you have a hidden power to unleash, through ur powerful Poetries. More and more power to you, I hope to read some more powerful poems on women from you. Love and respect, my dear friend.

    Liked by 1 person

    1. It’s ok dear. Language is only a medium. If you are getting the feel by some of the words, my half of he work has already done. Thank you so much for your kind words. You expressed very beautifully and I respect that. More love and hugs to you dear😊

      Liked by 1 person

      1. You are a great inspiration who urged me to resume my writing on Bengali. Thank you 🙂 What I really loved and respected is how beautifully you observed and portrayed such a varied attitudes of women. Kudos! 👏👏👏👏

        Liked by 1 person

      2. You should go for it, dear! It’s not like that I don’t enjoy writing in English but Hindi ki baat hi Kuch aur hai. This is the language in which I feel every emotion. I feel in Hindi. Both languages have their own feel. Thank you so much dear for this love. You are yourself a great writer and listen to the words of appreciation for me, means a lot😊

        Liked by 1 person

  4. Women are never tired, always smiling till their last breath, always standing for her family, very well Expressed qualities of a women . And apni pe aaja on toh sab pe bhari 🙂🙂 Lovely writeup !!

    Liked by 1 person

  5. Deepika, I’ve read your posts and heard your poetry before so I was guessing for a strong one and I’m not disappointed. Every word carries a very heavy meaning of what it is to be a woman. Lovely!!
    Janaki@beyondthefamiliar

    Liked by 1 person

  6. I literally had tears in my eyes reading your poem. After all the sacrifices a woman makes at the end she is the one who is the most taken for granted and has the most thankless position. But thankfully times are changing and we will see the change in this behavior.

    Liked by 1 person

  7. What a powerful post. All qualities of a woman are expressed so beautifully. We are a strong part of the population big sadly considered the weaker sex!! What an irony!! Hope we are able to change mindset. Loved this post

    Liked by 1 person

      1. एक बार फिर आपने बिल्कुल दिल से लिखा और सीधे हमारे दिल को छू लिया। आपसे उम्मीद भी बिल्कुल ऐसी ही एक कविता की थी। बहोत ही सुंदर रचना की है आपने और ये कविता एक सच्चाई है। अच्छा लगा पढ़कर और पूरा यक़ीन है सुनकर भी अच्छा लगेगा! इसका video बन चुका या जल्द बनाने वाली है? 🙂

        Liked by 1 person

      2. नहीं बना अभी तक, तबियत ही ठीक नहीं थी काफी टाइम से। बहुत अच्छा लगा राशि आपसे तारीफ़ सुनकर और इस हॉप में हिस्सा लेकर।

        Like

  8. Well penned, Deepika. Some hard-hitting words. I particularly liked “सीता भी वही है, काली भी है वो”. A woman who can create can also destroy. It is high time we women get our due. Keep inspiring.

    Liked by 1 person

  9. बहुत खूब चित्रण किया है नारी का, सच में वो
    सहनशील समझदार सृजन करने वाली
    सवालो के दायरे में खड़ी फिर भी प्यार से भरी
    आधी आबादी फिर भी अधिकार के लिए लड़ती हुई
    बेहतरीन कविता

    Liked by 1 person

  10. Duniya ka srijan he adhura hai naari ke begair. Purush aur Prakiti dono se bane hai duniya.
    Aapne bahut Sundar Kavita likha hai. Ek naari jitna karte hai, jitne balidan dete hai koi uske tulna nahi kar sakta. Har mamle mein barabar hai, sach kaha adha sansaar Hain hum par phir bhi bedhbav hai bahut.

    Liked by 1 person

  11. Loved reading the post. A woman is fierce and never gives up on herself or others. You blog has definitely inspired me to attempt writing in Hindi. It’s so beautiful to see you have written so much with great deal of patience.
    #damurureads Urvashi

    Liked by 1 person

    1. Thank you so much dear! It means a lot to me when a writer says she or he also wants to write in Hindi after reading my poems or blogs. Love you for your lovely comment❤

      Like

  12. बहोत की खूब.. जितनी तारीफ की जाए कम.. एक तरफ तो नारी को दुर्गा काली का रूप कहा जाता है वही दूसरी तरफ उसे खुद की पहचान बनाने के लिए हर दिन संघर्ष करना होता है. कितना विरोधाभाष है इस दुनिया में.. जहा नारी सृजन का श्रोत है पर सम्मान पाना उसके लिए एक लड़ाई सा है..

    Liked by 1 person

  13. u have spoken the heart of every women out there. there ae few who understand her side of the story, who understand her emotion and strides and most of the times it is a woman who has undergone the same. very beautifully captured feelings. Could resonate with every word written here. 🙂

    Liked by 1 person

  14. There is so much of power in your words. Also a haunting feel of yeh ek naari hai! Hope many men read this.
    The emotions make women feel complete and incomplete at the same time. Strength and also frustration. Such irony in women’s lives. Loved reading hindi. Takes me a little longer than english, but can feel the words. Aspire and write more!

    Liked by 1 person

  15. Mujhe bahut khushi hai ki apne doobara hamare sath judne ka nirnay kiya aur apne itni sunder kavita padhne ko mili. Hindi pe apki pakad achi hai aur acha thehrav hai apki likhawat me. Apne bhavon ko itni khubsurati se prastut karna bhi ek kala hai. Bahut hi badhiya likha apne Deepika ji.
    #RRxMM #TheWomanThatIAm

    Liked by 1 person

    1. Thank you so much, Manas! I am also glad to be a part of this hop too. Great opportunity to read versatile write-ups. Mai sirf koshish karti hu aur aage bhi karti rahugi. Appreciation and support give the strength to move in the right direction.😇😇

      Liked by 1 person

  16. बहुत ही सुन्दर और प्रभावशाली शब्दों का चयन किया है। एक स्त्री शक्ति का स्वरूप है। उसमे वह सारी खूबियां है जिसके साथ वह पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चल सकती है फिर क्यो उसको कम आखा जाता है?

    Liked by 1 person

  17. I had missed this blog train due to A2Z post planing.. and today I m so glad that you had shared this post group.. such an amazing write up and I think everyone has said all about it already..
    Keep up the great work dear

    Liked by 1 person

  18. मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।

    मैं हूँ आधी आबादी, मैं हूँ नारी।
    Wow! Such beautiful words. Loved the poem and the message it gives.

    Liked by 1 person

  19. बहुत ख़ूब लिखा है। एक स्त्री को अपने स्त्रीतव और अपनी ताक़त का एहसास होना बहुत ज़रूरी है तभी वो अपनी शक्ति का अनुरूप उपयोग कर पाएगी।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.