औरत: तेरी कहानी

दिल भर सा आता है अगर नज़र डालती हूँ औरतों की जिंदगानी पर।

क्या खूब क़िस्मत बनाई है रब ने उनकी, अक्सर कसी जाती है दूसरों की बनाई कसौटियों पर।

सबको खुश करने के चक्कर में उसकी अरमानों की पोटली कहीं पीछे छूट जाती है।

अलग अलग वज़हों से ही सही, न जाने कितनी बेड़ियों में बाँधी जाती है।

आज भी हम उठ नहीं पाए है, ओह! आपके घर बेटी हुई है,की मानसिकता से।

लड़कों के लिए अलग और लड़कियों के लिए बनाई गयी अलग परिभाषाओं से।

क्यूँ इस पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं का वो दर्ज़ा नहीं है?

क्यूँ वो दो दो घर होने के बावजूद किसी एक का भी अभिन्न हिस्सा नहीं है?

क्यूँ उसे परिभाषित किया जाता है अलग अलग उपमाओं में?

क्यूँ वजूद तलाशना पड़ता है अपना उसे अतीत की परछाइयों में?

जहाँ जन्म लिया, ये तो पराया धन है, कहकर विदा कर दिया जाता है।

और दूसरी ओर, ये तो दूसरे घर से आई है, कहकर सच में पराया कर दिया जाता है।

पूरी ज़िंदगी लगाने के बाद भी क्यूँ एक जगह उसकी अपनी नहीं बन पाती है?

कभी पिता तो कभी पति के नाम के साथ जुड़कर रहना ही उसकी तकदीर बन जाती है।

उसे और कुछ नहीं बस सम्मान और अपनापन चाहिए।

कोई न लगाए प्रश्न चिन्ह उसके व्यक्तित्व पर, उसे ये भरोसा चाहिए।

आशा करती है वो कि एक औरत की आवाज दूसरी औरत के द्वारा उठाई जाएगी।

जो उसने झेला है कभी, समय आने पर दूसरी औरत को झेलने से बचाएगी।

54 thoughts on “औरत: तेरी कहानी

  1. Well written and strongly expressed Deepika. But I personally feel that this emotion although true but has been over utilized. Feminism is more like a weapon nowdays than a concept. I am not against any gender but definitely against the bias. Nonetheless the emotions are valid to an extent and should be expressed.

    Liked by 1 person

      1. I understand the intent behind your effort and appreciate it too. Just that many well to do individuals have started misusing the emotions and the real people in need are still ignored.

        Liked by 1 person

      2. I know but true emotions should also come forward. I know a lot of women who are giving their 200 per cent and getting a zero appreciation for whatever she is doing. Sometimes it is the heart breaking and only they can understand who is really going through hard situations.

        Like

    1. Vibhu, I am not pointing out all the male community but we cannot deny also, things are the worst at some extinct. I am only portraying the pain of those women who are really suffering a lot. It’s not about feminism, For me its a matter of humanity which applied for both the genders. But at the same time, it is also true women suffer a lot. Exceptions are there.

      Like

  2. Pingback: URL

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s