वजूद जिंदगी का।

दर्द की इंतेहा आँखों की गहराईओं में है।

कुछ सवाल छुपे हुए, अतीत की परछाईओं में है।

हर घाव हँसकर पूछता है, वजूद तेरे होने का?

क्यों है डर हर कोने में, सब कुछ पाकर खोने का?

जिंदगी भी अजीब है, हर बार एक नया बहाना ढूंढ लेती है।

सलाम है उस जज्बें को,

जो सब कुछ भूलकर फिर नयी मंज़िल तलाश कर लेती है।

लोग सोचते ही रह जाते है ऱाज तेरी हिम्मत का।

और तू है कि फिर मुस्करा के आगे कदम बढ़ा लेती है।

43 thoughts on “वजूद जिंदगी का।

    1. I have also a plan regarding this. I am quite busy with my little one now but very soon I want to start working on this. Thanks a lot for your suggestion dear!

      Like

  1. Pingback: Homepage

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s